Connect with us

Hi, what are you looking for?

ब्लॉग

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना: कोरोना में अनाथ हुए बच्चों को सरकार देगी पेंशन

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2022: जानिये कौन होंगे लाभार्थी?

UP mukhyamantri bal seva yojna का उद्देश्य| उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना  पात्रता| योजना के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज| मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के मुख्य दिशा-निर्देश

mukhyamantri-bal-sewa-yojana- (1)

कोरोना महामारी में हमारा देश बहुत ही बुरे दौर से गुजरा था। इस महामारी ने कई घरों को तबाह कर दिया। कई लोग आज भी इस महामारी से हुए नुकसान से अभी तक उभर नहीं पाए हैं। कोरोना महामारी में कई लोगों की मृत्यु हुई, कई लोगों ने अपने प्रियजनों को खोया। जिनमें से ऐसे कई बच्चें भी हैं जो अनाथ हुए। उनकी देखरेख के लिए उनके परिवार में अब कोई भी नहीं बचा। इन बच्चों का लालन-पालन और शिक्षा की जिम्मेदारी लेने वाला कोई भी नहीं रहा। इन्हीं बच्चों की देखरेख और इनके भविष्य को सवांरने के लिए उत्तर प्रदेश राज्य सरकार ने मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना की शुरुआत की है।

Mukhyamantri Bal seva yoja full details in hindi

आज हम आपको अपने लेख में इस योजना से जुड़ी आवश्यक जानकारी देने वाले हैं। जिससे अगर आपके आस-पास भी ऐसा कोई भी बच्चा हो तो उसे योजना का लाभ प्राप्त हो सके।आपको बता दें कि सरकार द्वारा ऐसी कई योजनाओं की शुरुआत करी गई है। जिससे निर्धन परिवारों की मदद हो सके। प्रदेश में ऐसे बहुत से बच्चे हैं। जिनके माता-पिता या माता एवं पिता में से किसी एक की कोरोना संक्रमण से मौत हो चुकी है। सरकार ने Mukhyamantri Bal Seva Yojna 2022 का संचालन इन्हीं बच्चों को आर्थिक लाभ पहुंचाने के उद्देश्य से किया है।

उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना क्या है?

up-bal-seva-yojan

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उन बच्चों के लिए एक कल्याणकारी योजना शुरू की है। जिन्होंने अपने माता-पिता में से एक या दोनों को कोविड-19 महामारी के कारण खो दिया है। “उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना’ के तहत राज्य सरकार बच्चे के अभिभावक को वित्तीय सहायता देगी, जबकि वे बच्चें जिनके पास उनकी देखभाल के लिए कोई नहीं है उन्हें बाल गृह भेजा जाएगा।महामारी के दौरान जिन बच्चों ने अपने अभिभावकों को खो दिया है। उनकी परवशि और शिक्षा का ध्यान रखने की जिम्मेदारी राज्य सरकार की होगी। योजना के तहत सरकार बच्चों के अभिभावकों को 4000 रुपये प्रतिमाह पेंशन के रूप में देगी।

ऐसे बालक या बालिकाएं जिनकी उम्र दस वर्ष से कम है। और उनके परिवार में उनकी देखभाल के लिए कोई नहीं है, सरकार ने तय किया है कि ऐसे बच्चों को राज्य सरकार के बाल गृह में शरण दी जाएगी। वर्तमान में ऐसे बच्चों के लिए लखनऊ, मथुरा, प्रयागराज, आगरा और रामपुर में व्यवस्था की जा रही है। नाबालिग बालिकाओं को भारत सरकार द्वारा संचालित कस्तूरबा गांधी बालिका (आवासीय) विद्यालयों में रखा जाएगा। वर्तमान में ऐसे 13 बालगृह मौजूद हैं।

UP मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना का उद्देश्य क्या है?

उत्तरप्रदेश मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना योगी सरकार की उन बच्चों के लिए एक पहल है। जिन्होंने महामारी के दौरान अपने माता-पिता को खोया है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य इन सभी बच्चों को आर्थिक सहायता प्रदान करना है जिससे कि वे अपनी जरूरतों को पूरा कर सकें और उन्हें किसी पर भी निर्भर होने की आवश्यकता न पड़ेे। योजना के अंतर्गत ऐसे बच्चों की जिम्मेदारी सरकार उठाएगी। सरकार इन्हें प्रतिमाह आर्थिक सहायता के साथ ही साथ इनके रहने के लिए व्यवस्था करेगी। और शादी के लिए भी वित्तीय सहायता इन तक पहुंचाएगी। ऐसे बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी भी उत्तर प्रदेश राज्य सरकार ने ले रखी है।

UP mukhyamantri Bal seva yojna की विशेषताएं

  • मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना की आरंभ माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा 30 मई 2021 को किया गया था।
  • योजना के अंतर्गत बच्चों की शिक्षा से लेकर उनकी शादी तक उन्हें वित्त्तीय सहायता दी जाएगी।
  • कोरोना संक्रमण से जिन बच्चों के अभिभावकों की मृत्यु हो गई है। उन बच्चों के भरण-पोषण के लिए सरकार प्रतिमाह 4 हजार रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान कर रही है।
  • यह आर्थक सहायता बच्चे के वयस्क होने तक ही दी जाएगी।
  • इस योजना के तहत बालिकाओं की शादी के लिए सरकार 10 लाख तक की आर्थिक सहायता देगी।
  • वे सभी बच्चे जिनकी आयु दस वर्ष से कम है और उनके अभिभावक नहीं है। उन्हें आवासीय सुविधा भी दी जाएगी।
  • बाल सेवा योजना के अंतर्गत पढ़ाई करने वाले छात्रों को लैपटॅाप व टेबलेट भी वितरित किया जाएगा।
  • बालिकाओं को केंद्र सरकार द्वारा संचालित कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय और राज्य सरकार द्वारा संचालित राजकीय बालिका एवं अटल आवासीय विद्यालय के द्वारा शिक्षा एवं आवास की सुविधा प्रदान करी जाएगी।

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना की पात्रता

  1. योजना का लाभ उन आवेदकों को ही मिलेगा। जो उत्तर प्रदेश राज्य के मूल निवासी हैं।
  2. कोरोना महामारी के संक्रमण से जिन बच्चों की अभिभावकों की मृत्यु हुई है। वे ही बच्चें योजना के लिए पात्र हैं।
  3. वे बच्चें जिन्होंने अपने आय अर्जित करने वाले अभिभावकों को खो दिया है।
  4. बच्चे की उम्र 18 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  5. वे बच्चे इस योजना के लिए पात्र माने जाएंगे। जिनका एक ही अभिभावक था। और उनकी मृत्यु कोविड-19 के कारण हुई थी।
  6. एक परिवार से सब बच्चे जैविको हो या गोद लिये हुए योजना के तहत पात्र माने जाएंगे।
  7. वर्तमान में जो भी अभिभावक जीवित है माता या पिता उनकी वार्षिक आया 2 लाख से कम होनी चाहिए।

योनजा के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज

  • बच्चे का पासपोर्ट साइज फोटो
  • प्री -एप्लिकेशन में बच्चों और अभिभावकों की नवीनतम तस्वीरें शामिल हैं
  • आवेदन पत्र
  • माता-पिता का मृत्यु प्रमाण पत्र
  • कोरोना से मृत्यु होने का प्रमाण पत्र
  • बच्चे का आयु प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण प्रत्र अगर माता और पिता दोनों की मृत्यु हो चुकी है तो आय प्रमाण पत्र की जरूरत नहीं है।
  • निवास प्रमाण पत्र
  • शिक्षण संस्थानों में पंजीकृत प्रमाण पत्र
  • माता एवं पिता या वनस्पति संरक्षक का मृत्यु प्रमाण पत्र
  • कोविड -19 से मृत्यु का प्रमाण
  • शक्ति और वृद्धावस्था प्रमाणपत्र
  • 2015 की धारा 94 में उल्लिखित प्रमाण पत्र के अलावा, परिवार की सूची की एक प्रति
  • शादी का कार्ड
  • लड़की और अभिभावक तस्वीर

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के मुख्य दिशा-निर्देश

योजना के लिए सरकार ने कुछ दिशा-निर्देशों को जारी किया है। योजना के लिए आवेदन करने से पूर्व इन्हें जरूर पढ़ लें।

  1. राज्य सरकार के द्वारा कोरोना वायरस से अपने अभिभावकों को खो देने वाले बच्चों के भविष्य को ध्यान में रखकर इस योजना को शुरु किया गया था।
  2. सरकार ऐसे बच्चों का दाखिला केंद्रीय विद्यालयों में कराएगी।
  3. इसके साथ ही 18 वर्ष की उम्र तक 2500 रुपये प्रतिमाह बच्चों को वित्तीय सहायता देगी।
  4. केंद्र सरकार इस राशि को बच्चों तक पहुंचाने के लिए बच्चे के नाम से बचत खाता खोलेगी।
  5. बाल सेवा संस्थान में रहने वाले बच्चों के लिए Recurring deposit account खोला जाएगा। जिसमे 1500 रुपये जमा करे जाएंगे।
  6. बच्चों के परिवरिश में होने वाले खर्च के लिए सरकार 12 हजार रुपये की वार्षिक वित्तीय सहायता भी प्रदान करेगी।
  7. बालिकाओं को कस्तूरबा गांधी विद्यालयों में मुफ्त शिक्षा दी जाएगी।
  8. सरकार इन बालिकाओं के खाते में 51 हजार की राशि जमा करेगी। विवाह के समय ब्याज सहित शगुन भी दिया जाएगां
  9. इसके अलावा 18 वर्ष की आयु के बाद उच्च शिक्षा के लिए मासिक वित्तीय सहायता तथा 23 साल की आयु पूर्ण करने पर खुद का व्यवसाय शुरु करने के लिए पीएम केयर्स फंड से दस लाख तक की एकमुश्त राशि भी दी जाएगी।

Mukhyamantri bal seva योजना के अंतर्गत आवेदन करने की प्रक्रिया

mukhyamantri-bal-sewa-yojana-apply

अगर आप यूपी मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के लिए आवेदन करना चाहते हैं तो आपको निम्न चरणों को पूरा करना होगा।

  1. ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वालों को ग्राम विकास पंचायत अधिकारी या विकासखंड या जिला प्रोबेशन अधिकारी के कार्यालय में जाना होगा।
  2. वे आवेदक जो शहरी क्षेत्र से हैं, उन्हें तहसील, लेखपाल या जिला प्रोबेशन अधिकारी के कार्यालय में जाना होगा।
  3. कार्यालय से आपको योजना में आवेदन करने के लिए फॅार्म मिल जाएगा।
  4. आवेदन पत्र में पूछी गई सभी जानकारी जैसे नाम, पता, मोबाइल नं आदि आपको भर देनी है।
  5. अब मांगे गए महत्वपूर्ण दस्तावेजों को अटैच करके आवेदन पत्र को कार्यालय में जमा कर दीजिये।
  6. इस तरह से आप योजना के लिए आवेदन कर पाएंगे।
  7. इसके बाद जिला संरक्षण इकाई एवं बाल कल्याण समीति बच्चों को चिन्हित कर 15 दिनों के भीतर आगे की प्रक्रिया को पूरी करेगी।
  8. आपको बता दें कि योजना के तहत माता-पिता की मृत्यु के दो वर्ष के भीतर ही आवेदन किया जा सकता है।
  9. अप्रूवल के बाद आपको योजना का लाभ प्राप्त होने लगेगा।
Overview Of Mukhyamantri Bal Seva Yojana 2022
योजना का नाम मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना
आरंभ हुई 30 May 2021
लाभार्थी कोविड-19 के कारण अनाथ हुए उत्तर प्रदेश राज्य के बच्चें
उद्देश्य कोरोना वायरस संक्रमण के कारण अनाथ हुए बच्चों को आर्थिक सहायता प्रदान करना।
आधिकारिक वेबसाइट अभी शुरु नहीं करी गई
आर्थिक सहायता 4000 रुपये प्रतिमाह
आवेदन का प्रकार अभी ऑफलाइन ही आवेदन स्वीकार किये जा रहे हैं।
निश्कर्ष

कोविड-19 के कारण अनाथ हुए बच्चों के लिए यूपी सरकार की बाल सेवा योजना बहुत ही सराहनीय पहल है। इस योजना से बच्चों को आत्मनिर्भर बनाया जा सकेगा। हमने अपने लेख में इस योजना से जुड़ें सभी महत्वपूर्ण बिन्दुओं पर चर्चा करी है। अगर आपके मन में कोई भी प्रश्न हो या आपको योजना से जुड़ी किसी अन्य जानकारी को पूछना हो तो नीचे कमेंट बॅाक्स में हमें लिखे। और इस लेख को शेयर जरूर करें।

धन्यवाद,

और भी जानें

Kanya Sumangala Yojna: Apply Online For कन्या सुमंगला योजना

UP Bhagyalakshmi Yojna 2022: बेटियों के जन्म पर सरकार देगी 50 हजार, जल्द करें आवेदन

 

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You May Also Like

ब्लॉग

Prerna Up:- शिक्षा व्यवस्था को सुधरने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा mission prerna up .in की शुरुआत की गयी थी। ये मिशन सफल...

लखनऊ

भारत के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश की राजधानी lucknow है। जिसे दुनियाभर में नवाबों के शहर के नाम से जाना जाता है। लखनऊ...

ब्लॉग

चांद धरती से कितना दूर है| Chand dharti se kitna door hai? हम सभी जानते हैं कि आज चांद पर पहुंचना मात्र कल्पना नहीं...

धर्म

Pradhan Mantri Awas Yojana 2022: आज इस लेख में हम विस्तार पूर्वक प्रधानमंत्री आवास योजना (pmay) के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे। हम जानेंगे...