Connect with us

Hi, what are you looking for?

sharad-purnima-2022

धर्म

sharad purnima 2022: कब है शरद पूर्णिमा?

sharad purnima 2022: शरद पूर्णिमा का क्या महत्व है? व्रत, पूजा विधि

sharad-purnima-2022

शरद पूर्णिमा, जिसे कुमारा पूर्णिमा या कोजागिरी या कोजागरी पूर्णिमा के रूप में भी जाना जाता है, पश्चिम बंगाल, असम और ओडिशा राज्यों में देश के पूर्वी हिस्सों में महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है। कोजागरी हिंदुओं के लिए सबसे महत्वपूर्ण पूर्णिमा या पूर्णिमा की रातों में से एक है और यह इस साल 9 अक्टूबर को मनाई जाएगी। शरद पूर्णिमा हिंदू महीने आश्विन में मनाई जाती है। पूर्णिमा तिथि का हिंदू धर्म में खास महत्व है। प्रत्येक महीने मेें पड़ने वाली पूर्णिमा के अलग-अलग महत्व होते हैं। लेकिन इनमें से कुछ पूर्णिमा बहुत ही खास मानी जाती है। शरद पूर्णिमा इन्हीं में से एक पूर्णिमा है जिसका बहुत ही खास महत्व है। आइये जानते हैं sharad purnima 2022 कब है? इसका क्या महत्व है, पूजा विधि और व्रत की संपूर्ण जानकारी।

sharad purnima 2022 तिथि एवं शुभ मुहूर्त 

पंचाग के अनुसार इस वर्ष शरद पूर्णिमा 9 अक्टूबर को होगी। यह दिन फसल के त्योहार के रूप में भी मनाया जाता है। जो बारिश के मौसम के अंत का भी प्रतीक है। भारत के विभिन्न राज्यों में इस अलग-अलग तरीकों से मनाया जाता है।

  • शरद पूर्णिमा तिथि- 9 अक्टूबर 2022
  • पूर्णिमा तिथि आरंभ- 9 अक्टूबर सुबह 3 बजकर 41 मिनट से शुरू
  • पूर्णिमा तिथि समाप्त- 10 अक्टूबर सुबह 2 बजकर 25 मिनट तक
  • चंद्रोदय का समय- 9 अक्टूबर शाम 5 बजकर 58 मिनट

वैसे तो हर एक पूर्णिमा का अपना एक खास महत्व होता है। लेकिन हिंदू धर्म में शरद पूर्णिमा का सबसे ज्यादा महत्व माना जाता है। शरद पूर्णिमा के दिन से ही हल्की हल्की सर्दी की शुरुआत हो जाती है। यह समय भगवान विष्णु के जागने के समय होता है। ऐसी मान्यता है शरद पूर्णिमा की रात्रि में अमृत बरसता है। लोग इस रात खीर बनाते हैं और उसे पूर्णिमा के चांद की रोशनी में रख देते हैं। सुबह उठकर जो कोई भी इस खीर का सेवन करता है। वह स्वस्थ और रोग मुक्त रहता है। एक और महत्व है इस पूर्णिमा का। पुराणों के मुताबिक इस दिन भगवान कृष्ण ने गोपियों के साथ महारास किया था। इसलिए इसे रास पूर्णिमा भी कहते हैं।

शरद पूर्णिमा 2022 का क्या महत्व है?

  • इस दिन चंद्रमा अपने सभी गुणों के साथ पृथ्वी के बहुत ही करीब आता है और अपनी दिव्य किरणों से सभी को अमृत प्रदान करता है।
  • ऐसा माना जाता है कि जिन जोड़ों को अभी तक संतान प्राप्त नहीं हुई है या उन्हें संतान से संबंधित परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। उन्हें इस पूर्णिमा का व्रत जरूर रखना चाहिए।
  • इस दिन व्रत रखने वाली अविवाहित कन्याओं को योग्य वर की प्राप्ति होती है।
  • वैदिक ज्योतिष के अनुसार इस दिन पड़ने वाली चांदनी से आध्यात्मिक और शारीरिक शक्ति में वृ़िद्ध होती है जो एक सुखी और रोगमुक्त जीवन जीने के लिए आवश्यक है। ,
  • पवित्र पुस्तकों (ब्रह्म पुराण और स्कन्द पुराण) की शिक्षाओं के अनुसार शरद पूर्णिमा की इस दिव्य रात में देवी लक्ष्मी पृथ्वी पर अवतरित होती हैं। इसलिए भक्त उनका आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए धन की देवी लक्ष्मी की पूजा करते हैं।

शरद पूर्णिमा व्रत और पूजा विधि

Sharad-Purnima-2022

  • इस दिन चंद्रमा के साथ माता लक्ष्मी की भी पूजा होती है। शरद पूर्णिमा के दिन भक्त सुबह से शाम से शाम तक उपवास रखते हैं।
  • इस दिन भक्त ब्रह्म मुहूर्त में उठकर किसी भी पवित्र नदी में स्नान करते हैं। अगर नदी में स्नान करना संभव नहीं है तो
  • भक्त अपने ऊपर गंगाजल का छिड़काव भी कर सकते हैं।
  • नहाकर शुद्ध मन से व्रत रखने का संकल्प लें।
  • देवी लक्ष्मी की पूजा करने से पहले उनकी मूर्ति पर गंगाजल या किसी पवित्र नदी का जल चढ़ाएं।
  • देवी लक्ष्मी की मूर्ति को लाल रंग के आसन पर रखें।
  • अब उन्हें वस्त्र तथा आभूषणों से सजाएं।
  • माता लक्ष्मी को फल तथा फूल चढ़ाएं।
  • देवी के सामने घी का दिया जला कर उनकी स्तुति करें।
  • शाम के समय जब चंद्रमा आकाश के बीच में स्थित हो तब चंद्र भगवान की दीये से आरती करें। और उन्हें खीर चढ़ाएं।
  • खीर के बर्तन को चंद्रमा की रोशनी में रखें।
  • सुबह उठकर खीर को प्रसाद के रूप में वितरित करें।
sharad purnima 2021 

शरद पूर्णिमा 2021 मंगलवार, 19 अक्टूबर, 2021 को पड़ रही है।

  • पूर्णिमा तिथि शुरू: 19 अक्टूबर को 07.03 बजे
  • पूर्णिमा तिथि समाप्त: 20 अक्टूबर को 08.26 बजे।
  • शरद पूर्णिमा के दिन चंद्रोदय का समय: शाम 05.20 बजे।
  • शरद पूर्णिमा का महत्व
निष्कर्श

ऐसा माना जाता है कि शरद पूर्णिमा पूरे वर्ष में एकमात्र ऐसा दिन होता है जब चंद्रमा अपने पूर्ण आकार में होता है और अपनी सोलह कलाओं से भरा होता है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, चंद्रमा की किरणों में कुछ उपचार गुण होते हैं जो मानव शरीर और आत्मा को पोषण देते हैं। आज की पोस्ट में हमने आपको sharad purnima 2022 से संबंधित जानकारी दी है। अगर आपको जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें। अन्य किसी जानकारी के लिए नीचे दिये गए कमेंट बॅाक्स पर क्लिक करें।
धन्यवाद

यह भी पढ़ें

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You May Also Like

ब्लॉग

Prerna Up:- शिक्षा व्यवस्था को सुधरने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा mission prerna up .in की शुरुआत की गयी थी। ये मिशन सफल...

लखनऊ

भारत के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश की राजधानी lucknow है। जिसे दुनियाभर में नवाबों के शहर के नाम से जाना जाता है। लखनऊ...

ब्लॉग

चांद धरती से कितना दूर है| Chand dharti se kitna door hai? हम सभी जानते हैं कि आज चांद पर पहुंचना मात्र कल्पना नहीं...

ब्लॉग

आस-पास कहाँ-कहाँ रेस्टोरेंट मौजूद हैं- कैसे पता करें   आस-पास कहां-कहां रेस्टोरेंट मौजूद हैं और कैसे आप उन्हें खोज सकते है, इस आर्टिकल को...